Fri. Feb 26th, 2021

जैम पोटटल बना भ्र्ष्टाचार का केंद्र,

भारत सरकार की अत्यंत महत्वपूर्ण योजना “जैम पोटटल” भ्र्ष्टाचार का केंद बना हुआ है जिसके सम्बन्ध में अनेको बार पत्र एवं लेटर ।

के माध्यम से सूचित कर चुका हूँ ये जैम पोटटल स्टार्ट्ट-अप कं पतनयों के तलए एक काल के रूप में काम कर रहा है । स्टाटटअप
कं पतनयां जैम के तानाशाही तनयम एवं शतों के द्वारा र ंदी जा रही है आज का समय बहुत ही बहुमूल्य है क्योतक पूरे एक वर्ट
कोतवड -19 से युध्य के पश्चात स्टाटटअप कं पतनयां पुनः अंकु ररत होने का प्रयास कर रही है परन्तुजैम में व्याप्त भ्र्ष्टाचार केपालन
पोर्र् के तलए जैम के द्वारा बनाये गए कठोर तनयम एवं शतों से स्टाटट-अप कं पतनयां र ंदी जा रही हैं! उक्त बातेंइंतडयन स्टाटटअप
यूतनयन केराटीय संयोजक श्री शुधेस्वर श्रीवास्तव जी लखनऊ केएक रेस्टरा मेंप्रेस वाताटकेद रान कही ! श्री श्रीवास्तव जैम पर आरोप लगाते
हुए तत्थ्यो केसाथ कहा तक जब क्रे ता तकसी कं पनी को डायरेक्ट L1 आडटर देता है और जैम द्वारा उस तवभाग केपेमेंट स्टेटस को
रेड जोन में रखा गया है तजसके कारर् तवक्रे ता उसके कायाटदेश को स्वीकार नहीं करता उस दशा में तवक्रे ता के ऊपर कठोर
कायटवाही तक जाती है और क्रे ता (तवभाग ) के तलए कायटवाही नहींकी जाती येकहाूँका न्याय है, इस दशा में स्टाटटअप कं पतनयां 45
तदनों के तलए बंद कर तदया जाता हैतजसकेकारर् रोजगार तिन जाने से कमटचाररयों एवं कं पतनयों को भुखमरी का सामना करना
पड़ता है, जैम पोटटल पर जब तकसी प्रोडक्ट को तबड हेतु अपलोड तकया जाता है तो न ही उसका कोई मानक है न ही दर
सुतनतश्चत है न ही उसके तकसी प्रकार के मूल्यांकन पर जेम की कोई तिम्मेदारी है कोई भी जब चाहे तजतना चाहे रेट घटा और
बढ़ा सकता है तजसमेस्टाटटअप व्यसायी की आतथटक हत्या हो रही है, तकसी भी कं प्यूटर में तवंडोस का महत्वपूर्ट स्थान है तजसे
फ़िी पाइरेटेड तरीके से कं प्यूटर में अपलोड/इंसटाल कर तदया जाता है और तवभाग में अपूततट कर दी जाती है तजससे की सरकार
को बहुत बड़ी आतथटक क्षतत पहुूँचती है एवं साइबर क्राइम की सम्भवना कई गुना बढ़ जाती है तजसके तलए जैम कही से तजम्मेदारी
नहीं लेता ,जब तवक्रे ता तकसी उत्पाद को जैमपोटटल पर अपलोड करता है उस समय प्रोडक्ट माके ट में उपलब्ध होता है इस प्रकार
के हिारो प्रोडक्ट अपलोड होते है तजसका L1 दर पर आडटर भी आ जाता है संयोगवस प्रोडक्ट की उपलब्धता कभी -कभी शून्य
होती है तजसके कारर् तवक्रे ता अपूततट करने हेतुतनधाटररत समय में अक्षम होता है तजसके कारर् क्रे ता स्वयं इंतसडेंट जनरेट कर
देता है अथवा जैम में आटोमेतटक जनरेट हो जाता है और तवक्रे ता को वाच तलस्ट में डाल तदया जाता है तजसके तलए क्रे ता पक्ष
को सुना नहीं जाता और तवक्रे ता पक्ष घोर अपराधी समझा जाता है, तवक्रे ता द्वारा आदेशानुसार अपूततट करा देने के पश्चात भी
अनेकोबार तवक्रे ता द्वारा तनधाटररत अवतध में भुगतान नहीं तकया जाता तजसके तलए जैम तकसी प्रकार की तिम्मेदारी नहीं लेता ,
तकसी प्रकरर् में तवक्रे ता जैम को चाहे तजतना भी मेल करले परन्तु जेम द्वारा आटोमेतटक जनरेटेड मेल ही आता है और उस पर
कोई कायटवाही नहीं की जाती है जैम का काल सेंटर मात्र एक बकवास करने का कें द्र है जो तक इंतसडेंट अथवा तकसी प्रकार के
कायटवाही से सम्बंतधत कोई भी तिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं होता ,भारत सरकार में जैम मात्र एक ऐसा तवभाग है तजसमे आज
भी कोई अतधकारी कायाटलय नहीं आता और कोतवड के बहाने घर से काम करने का तदखावा कर रहे है तजसके कारर् तकसी भी
पीतड़त कं पनी की कोई भी बात सुनी नहीं जाती तजसका मात्र एक कारर् भ्र्ष्टाचार है जो तक आसानी और स्वच्छ तररके से घर
से तकया जा रहा है, आदरर्ीय प्रधानमंत्री जी की प्रमुख योजना जैम पोटटल भ्र्ष्टाचार के भेट चढ़ा हुआ है तजसका मुख्य कारर् जैम
के अतधकाररयो एवं कमटचाररयों में व्याप्त भ्र्षटता , घर से कायट करना , तकसी भी प्रकार की तिम्मेदार न लेना ,ये सब लाल फीताशाही
के उपासक है,कभी-कभी तडलवरी क्रे ता के लोके शन पर पहुंच जाता है परन्तु क्रे ता तनधाटररत अवतध में मटेररयल ररसीव नहीं करता
और समय उपरांत कायाटदेश तनरस्त कर देता है इस संबंध में भी जैम कही से भी कोई तिम्मेदारी नहीं लेता तजसका पूरा नुकसान
कं पतनयोंको भुगतना पड़ता है, क्रे ता तनधाटररत अवतध में तवक्रे ता को भुगतान नहीं करता इनवॉइस जनरेट होनेके तत्पशचात तवक्रे ता
को GST जमा करना पड़ता है तजसे तवलम्ब होने की दशा मेंतवक्रे ता को आतथटक दंड का भुगतान करना पड़ता है तजसके संबंध
में भी इस क्षतत पूततट का जैम कोई भी तिम्मेदारी नहींलेता , जैम में प्री तडलवरी इंस्पेक्शन का कोई प्रावधान नहीं है न उपकरर्ों
का कोई मानक तजसकी वजह से बहुत सारे घतटया प्रोडक्ट्स की तवभागों में आपूततट हो जाती है और सरकार को भारी नुकसान
का सामना करना पड़ जाता है,इंतसडेंट के क्रम में जैम क्रे ता और तवक्रे ता दोनों को एक साथ नहीं बुलाता न ही तवक्रे ता की कोई
दलील सुनता है और एकपक्षीय क्रे ता के पक्ष में तनर्टय लेते हुए तवक्रे ता को सजा दे देता है, भारत सरकार ने स्टाटटअप एवं ऍम०
एस० ऍम० ई० के माध्यम से िोटे व्यवसातययो को बढ़ावा देने के तलए लगातार प्रयासरत है और स्टाटटअप एवं ऍम० एस० ऍम०
ई० होल्डर कं पनी को ई ऍम डी में मेंपूर्टतया िू ट हैं परन्तु तवक्रे ता अपने स्वयं के तनयमानुसार तबड बनाते हुए कोई भी िू ट नहीं
देता और तत्कालीन सरकार को ठें गा तदखा रहा है, पी० ए० सी० तबड और सामान्य तबड दोनों में क्या अंतर है और क्यों तकया
जाता हैक्या यह भ्र्ष्टाचार की ओर इशारा नहीं करता, कभी-कभी तवक्रे ता तबड करने के उपरांत L1 हो जाता है परन्तु तवभाग
द्वारा मनचाहे कं पनी को कायटदेश न तमल पाने के कारर् तवभाग तबड ही तनरस्त कर देता है, भारत सरकार के शासनादेश
सं० (संलंघन ) NO – F . 9/4/2020 – PPD का सन्दभट ग्रहर् करें तजसके माध्यम से PBG 10 अथवा 5% के स्थान पर 3% तलया जायेगा
और पूवटवत PBG में बदलाव कर 3% ही तलया जायेगा परन्तु जैम शासनदेश को बताते हुए अभी तक कोई भी बदलाव नहीं
तकया ,अनेको बार क्रे ता की आपूततटपूर्ट हो जाने के पश्चात भी क्रे ता जैम पोटटल पर तडलेवरी ररसीव अपडेट नहींकरता !श्री
शुधेस्वर श्रीवास्तव जी नेपुरेमामलेको गंभीरता सेउठातेहुए प्रधानमंत्री जी सेसंज्ञान लेनेहेतुतनवेदन तकया है तक उक्त समस्त तबदओ
को ध्यान में रखते हुए तनयमो मेंबदलाव तकया जाये तजससे तक भ्र्ष्टाचार पर लगाम लगाया जा सके और स्टाटट-अप कं पतनयों
का शोर्र् न हो तजससेउन्हें भी उत्थान का म का तमलेराटीय संयोजक जी नेकहा तक एक बात स्पट करना चाहूँगा तक उक्त खातमयों
सेजैम पर पंजीकृ त हर प्रकार की कम्पतनयाूँपरेशान है, और तवभाग धन उगाही कर संतुट, इस भ्र्ष्टाचार को समाप्त तकया जा सकता है,
यतद इस पोटटल मेंबदलाव तकया जायेतथा यह भी कहा तक यतद सरकार द्वारा कोई कायटवाही नहीं की गयी तो मिबूर होकर आंदोलन का
सहारा लेना पड़ेगा और अपनेदेश केव्यवसातययोंके तलए तकसी भी हद तक संघर्टकरनेको तैयार ह

मुख्य ख़बरें