Fri. Feb 26th, 2021

नहीं थम रहा है जिले के पीडब्ल्यूडी विभाग में भ्रष्टाचार, जे0ई, एक्सईएन और चीफ मिलकर हो रहे हैं मालामाल,मूरतगंज रोड के निर्माण में हो रहा है भ्रष्टाचार, पीएमजीएसवाई के गाइडलाइन के विपरीत हो रहा है कार्य

पीएमजीएसवाई के एक्सियन व इनके चहेते जे0ई बुधराज पाल ने मचा रखी है विभाग में लूट । मशीन की जगह लेबरों से कराया जा रहा है काम ।

==================================
👉 बिना बांड भरे शुरू करा दिया काम ,एक्सईएन एच0सी त्रिवेदी व जेई बुधराज पाल के मिलीभगत से शुरू हुआ मूरतगंज से बदनपुर घाट रोड पर काम
👉 गायत्री प्रसाद तिवारी है इस रोड के ठेकेदार, 28 परसेंट बिलो मिला है टेंडर, कौशांबी और इलाहाबाद के रोड निर्माण मे फैला भ्रष्टाचार । मूरतगंज सेेेे कोरई घाट एवं अमोलवा से सिरसा  इलाहाबाद  का मामला ।

👉 बिना बांड के शुरू करा दिया गया काम, नहीं हो रहा है काम में मशीनों का प्रयोग, जांच का विषय ।
👉 रोड में पीसी ,शीलकोट और टैक कोट मसीन से न कराकर लेेेबरो से कराया जा रहा एवं रोड की प्रेशर से सफाई न करके लेबरो से करवाया गया है । सिर्फ दिखावटी में रखते हैं मसीन ।

कौशांबी । जनपद में पीडब्ल्यूडी विभाग के पीएमजीएसवाई के तहत रोड बनाने का कार्य मूरतगंज जीटी रोड से कोराईघाट रोड पर काम शुरू कर दिया गया है । इस रोड का टेंडर 28% बिलो हुआ है जिसके ठेकेदार गायत्री प्रसाद तिवारी है । इस रोड पर कार्य करने के लिए मशीनों का प्रयोग नहीं हो रहा है लेबरों से काम कराए जा रहे हैं ।

सूत्रों की माने तो बिना टीएनसी के सर्कुलर को पूरा किए हुए ,बिना बांड भरे काम शुरू कर दिया गया है । इस सड़क के रिनुवल के लिए जो कार्य कराया जा रहा है वह मानक के मुताबिक नहीं हो रहा है पीएमजीएसवाई के गाइड लाइन के विपरीत कार्य हो रहा है । देखा जाए तो यह रोड लगभग 13 किलोमीटर की है जिसमें एक करोड़ 32 लाख की लागत से बननी थी लेकिन इसमें 28 परसेंट बिलो टेंडर लेकर काम शुरू कराया गया है । जिसमें विभाग के जे0ई बुधराज पाल व एक्सीएन एस0सी0 त्रिवेदी की साठगांठ से कार्य हो रहा है, जिसमें खुलेआम नियमों का उल्लंघन किया जा रहा है । जिले में कई सालों से अधिकतर सड़कों के काम में यही एक्सईएन और जे0ई मिलकर लूट मचा रखे हैं ।

बता दें कि एस0सी त्रिवेदी के पास 3 जिले का चार्ज है और इनके विभागीय चीफ भी इनके रिश्तेदार है । यही वजह है कि तीनों जिलों को ये मनमानी तरीके से लूटने में मस्त हैं और इन पर आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है । एक्सईएन के चहेते जे0ई को ही काम दिया जाता है चुकी इनके द्वारा अवैध वसूली का पैसा नीचे से ऊपर तक बंदरबांट किया जाता है । यदि देखा जाए तो यूपीआरडीए के मुताबिक जो रोड जिले में हैंडोवर होती है उसमें रिनुअल कराया जाता है , एनओसी मिल जाने के बाद फिर स्टीमेट बनाकर भेजते हैं उसके बाद ऊपर से सेंसन होता है ,फिर उसके बाद टेंडर होता है । इस मामले में टीएस तो करा दिया गया है लेकिन बांड नहीं भरा गया है । यदि भविष्य मे रोड में कोई गड़बड़ी या कोई कमी होती है तो इसकी जवाबदेही किस पर तय होगी यह एक बड़ा सवाल है । इसीलिए विभाग में सिक्योरिटी ली जाती है लेकिन यहां ऐसा नहीं है ।

देखा जाए तो पीएमजीएसवाई के गाइडलाइन के विपरीत काम हो रहा है लेकिन यहां अंधेर नगरी चौपट राजा की तरह सब कुछ आसानी से खुलेआम चल रहा है और इस पर रोक लगाने वाला कोई नहीं है ।

बता दें कि पिछले वर्ष भी इसी तरह पीएमजीएसवाई की रोड बनाने के डीपीआर में कौशाम्बी सहित पूरे मंडल में करोड़ों रुपए के घोटाला किया गया है , जिसकी खबर कौशांबी वॉइस ने छापी थी लेकिन उच्च अधिकारियों की मिलीभगत की वजह से उसमें भी कोई कार्यवाही नहीं हुई है ।

इस विभाग में भ्रष्टाचार का आलम यह है कि कौशांबी जनपद में तैनात प्रीति पटेल जो कि ए0ई है उसे भी एच0सी त्रिवेदी ने अपने कार्य को कराने के लिए अपने रिश्तेदार चीफ से मिलकर इलाहाबाद मे अटैच कर रखा है जो कि प्रीति पटेल का गृह जनपद है । अधिशासी अभियंता द्वारा ए0ई0 को वहां अटैच किया गया है और मनमाना काम लिया जा रहा है । सूत्रों की मानें तो नियम विरुद्ध प्रीति पटेल का इलाहाबाद में गृह जनपद में अटैच करना चर्चा का विषय बना हुआ है लेकिन इस मामले में भी चीफ और एक्सईएन की मिलीभगत से भ्रष्टाचार चरम सीमा पर चल रहा है ।

इसी प्रकार देखा जाए जो सिराथू और धाता रोड से जो मंझनपुर दुर्गा मंदिर वाली रोड पिछले वर्ष बनी है इसमें भी बिना काम किए ही लगभग 30 लाख का बजट गोलमाल कर दिया गया है लेकिन इसमें भी कोई जांच नहीं हुई है । रोड में काम नहीं किया गया है और थोड़ा बहुत करके पैसा इन अधिकारियों ने हड़प लिया है यदि आज भी इस सड़क की मेजरमेंट बुक से और सड़क के कार का मिलान कर दिया जाए तो इसकी पोल खुलना तय है । यह सारा काम एस0सी त्रिवेदी और उनके चाहेते जे0ई बुधराज पाल एवं चीफ की मिलीभगत से विभाग में खुलेआम लूट हो रही है ,जिस पर आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है ।

बता दें कि एच0सी त्रिवेदी को इलाहाबाद ,फतेहपुर , कौशांबी का चार्ज मिला है लेकिन यह हमेशा गायब रहते हैं और इन जिलों की गाड़ियों का भी खूब दुरुपयोग करके अपने निजी कार्यों में प्रयोग कर रहे हैं ,जिसे ना तो कोई देखने वाला है और ना ही रोकने वाला है । इस तरह से देखा जाए तो यही पीएमजीएसवाई के जेई और एक्शियन त्रिवेदी एवं चीफ मिलकर विभाग के राजस्व को चूना लगा रहे हैं और करोड़ों का घोटाला कर चुके हैं । सूत्रों की मानी जाए तो इनके पास अरबों की अवैध तरीके से कमाई गई आय से अधिक एवं तमाम बेनामी संपत्ति है । यदि इस मामले में जांच कराई गई तो इन लोगों का फंसना तय है । अब देखना है की कौशांबी वाइस की खबर का संज्ञान उच्च अधिकारी लेते हैं या फिर भ्रष्टाचार के इस विभागीय आलम में सब कुछ फाइलो मे दब कर रह जाएगा यह जांच का विषय है ।

अमरनाथ झा – पत्रकार

मुख्य ख़बरें