Sun. Jan 17th, 2021

जिला अस्पताल में आउटसोर्सिंग पर रखें कर्मचारियों को किया जा रहा परेशान,जितेंद्र पांडे व दिवेश से है पीड़ित,8 बजे से लेकर दो सिप्ट मे 16 घंटे तक लेते हैं ड्यूटी, उसके बाद भी करते हैं अब्सेंट,निकालने की देते हैं धमकी

👉 जीत सिकोरिटी एजेंसी को मिला है आउटसोर्सिंग के रखने का काम/ टेंडर …. नहीं है लोगों को संज्ञान ।
👉 कौन है इस कंपनी का असली मालिक…और कौन है सुपरवाइजर नहीं है किसी को अता पता …
👉 जिला अस्पताल में आउटसोर्सिंग पर काम कराने वाली कंपनी का नाम, संपर्क नंबर एवं इसके सुपरवाइजरो का नाम, नंबर की लगी होनी चाहिए लिस्ट । क्या सही है सीसीटीवी कैमरे – कौन बनेगा इन कर्मियों केे उपस्थिति का गवाह …

सुबह 6:30 बजे आउटसोर्सिंग पर रखें कर्मियों को अस्पताल में हाजिरी देने के लिए दिया गया निर्देश….

कौशाम्बी । जिला अस्पताल में शुरू हुआ नया कारनामा । सुबह 8:00 बजे ड्यूटी पर पहुंचने के बाद भी सुपरवाइजर कर दिया अबसेंट । आउटसोर्सिंग पर रखे गए कई लोगों का रजिस्टर मे नहीं लगा रहे हैं हाजिरी कर दे रहे हैं अबसेंट और लेते हैं 16 घंटे काम । अबसेंट दिखाकर कर्मियों को निकालने का नया प्लान । जिला अस्पताल के आउटसोर्सिंग में काम देख रहा जितेंद्र पांडे कर रहा है कर्मचारियों को परेशान, देता है धमकी । जिला अस्पताल के सीसीटीवी कैमरे है खराब, ताकि कर्मचारियों का नहीं आ सके फुटेज ,नहीं तो मनमानी करने वालों की कार्यप्रणाली पर कैसे लगेगी लगाम । सुपरवाइजर का काम देख रहा जितेंद्र पांडे देवेंद्र आदि लोग कर्मचारियों को कर रहे परेशान । अपने चहेतों का लगाते हैं अटेंडेंस, नहीं है अटेंडेंस का कोई टाइम टेबल । आउटसोर्सिंग पर लगे लोगों ने जिलाधिकारी का ध्यान आकृष्ट कराकर जांच कराने की उठाई मांग । गिने-चुने कर्मचारियों से कराते हैं रात दिन काम जबकि और लोग करते हैं आराम । मनमानी अटेंडेंस लगाकर करते हैं पैसे का भुगतान । सुपरवाइजरो की है मनमानी, इनकी कार्यप्रणाली एवं काम करने वाले कर्मियों की संख्या के बारे में जांच की उठी मांग ।

कौशांबी जिला चिकित्सालय के नई बिल्डिंग में आउटसोर्सिंग पर रखे गए कर्मचारियों को शोषण चरम सीमा पर हो रहा है । बता दें कि पहले तो इस अस्पताल में आउटसोर्सिंग पर काम कराने वाली कंपनी के टेंडर के बारे में भी चर्चा है कि गलत तरीके से इसे टेंडर मिला है । कंपनी अस्पताल में रखें अपने सुपरवाइजर के माध्यम से मनमाना पैसा वसूल कर आउटसोर्सिंग पर लोगों को रख रहे हैं । सूत्रों की मानें तो 50 से ₹60 हजार लेकर कर्मचारियों को रखा जाता है और कुछ दिनों बाद कंपनी के टेंडर समाप्त होने से पहले ही कोई ना कोई आरोप लगाकर चोरी लगाकर या अब्सेंट दिखा कर उनको काम से हटा दिया जाता है और उनकी जगह पर नए लोगों से मोटी रकम लेकर उनको भर्ती कर दिया जाता है ।

यह सिलसिला वर्षों से जिला अस्पताल में आउटसोर्सिंग पर रखें जाने वाले कर्मचारियों के साथ हो रहा है लेकिन इसका संज्ञान लेने वाला कोई नहीं है । आउटसोर्सिंग पर रखे कर्मचारियों का शोषण इस कदर से है कि उनसे 16 से 18 घंटे तक ड्यूटी ली जा रही है और उसके बाद भी उनको अबसेंट कर दिया जाता है । अबसेंट करने के बाद भी उनको बताया नहीं जाता है और उनसे पूरे ड्यूटी ली जाती है । जब दूसरे तीसरे दिन उन लोग कर्मचारियों को पता चलता है कि उनको पिछले दिनों अब्सेंट रखा गया है तो वह शिकायत भी किसी से नहीं कर पाते हैं क्योंकि उनको डरा धमका के निकालने की धमकी देकर चुप करा कर रखा जाता है । गिने चुने कर्मचारियों से ही काम लिया जाता है बाकी लोगों को काम ना कराकर छुट्टी दे रखते हैं और उनसे महीनावारी लेते हैं ।

कौशांबी वॉइस के खबर के संज्ञान लेकर हाल ही में जिलाधिकारी ने जिला अस्पताल का दौरा करके सही तरीके से काम करने के दिशा निर्देश दिए हैं लेकिन फिर भी यह बिगड़ैल प्राइवेट आउटसोर्सिंग के कंपनी के सुपरवाइजर के नाम पर काम कर रहे लोग जितेंद्र पांडे, देवेश व इसके और दो-तीन साथी कर्मचारियों को शोषण कर रहे हैं । उनसे वसूली नहीं मिलती है तो उनको निकालने के लिए कोई ना कोई आरोप लगाते रहते हैं । आउटसोर्सिंग पर लगे तमाम कर्मचारियों ने जिला अधिकारी का ध्यान एवं सीएमओ का ध्यान आकृष्ट कराकर आउटसोर्सिंग के कंपनी के रखे गए सुपरवाइजर  की कार्यप्रणाली एवं निकालने और रखने के इनकी मनमानी पर रोक लगाने की मांग की है । अनिल नामक काम कर रहे कर्मचारी को आज सुबह 8:00 बजे अस्पताल पहुंचने के बाद भी उसे अब्सेंट कर दिया गया हैक्ष। इसी प्रकार कल भी वह काम किया और 8 घंटे से ज्यादा ड्यूटी करने के बाद भी उसे अबसेंट कर दिया गया इस बात की शिकायत उसने सीएमएस से की है ।

इस संबंध में जब जिला अस्पताल के सीएमएस दीपक सेठ से बात की गई तो उन्होंने बताया कि जीत सिक्योरिटी नामक एजेंसी को आउटसोर्सिंग पर कर्मचारियों को रखने का काम मिला हुआ है और काफी लोग इस कंपनी के तहत काम कर रहे हैं । यदि उनके संज्ञान में ऐसी कोई शिकायत आएगी आती है तो कार्रवाई की जाएगी ।

अमरनाथ झा पत्रकार – हिंदी खबर

मुख्य ख़बरें