Thu. Oct 22nd, 2020

आखिर कैसे मिलेगा दलितों को न्याय पुलिस अपराधियों से मिलकर करती है खेल, एएसपी के आदेश के बाद दर्ज हुआ था पीड़िता की रिपोर्ट, पुलिस की शह पर प्रधान पति एवं अभियुक्ततो ने जबरन करा दिया एबार्शन,आखिर कहां और क्यों गायब हो गई पीड़िता

पुलिस पीड़ितों की मदद करने के बजाय देती है अपराधियों का साथ , बदले में लेती है मोटी रकम।
=================================

👉 उच्च अधिकारियों के आदेश के बाद दर्ज हुई थी एफआईआर, उसके बाद शुरू हुआ पुलिस और अपराधियों के गठजोड़ का खेल ।

👉 दलित पीड़िता का जबरन डरा धमकाकर कराया गया एबॉर्शन , 13 घंटा तक  पीड़िता को एक प्राइवेट अस्पताल में रखा गया बंद । जिले मेंं जंगलराज कायम, कानून व्यवस्था ध्वस्त …

जिले में हो रही है खुलेआम प्राइवेट अस्पतालों में भ्रूण हत्या जिला प्रशासन आंख मूंद कर बैठा ।

👉 164 के बयान में भी डरा धमकाकर दिलाया गया लड़ाई झगड़े का बयान, बयान देने जाते समय भी पीड़िता के पीछे आधा दर्जन लोग लगे रहते थे लोग

कौशांबी जिले में भ्रूण हत्या थमने का नाम नहीं ले रही है वहीं पुलिस और अपराधियों की मिलीभगत से पीड़ितों को न्याय नहीं मिल रहा है । ऐसे ही एक मामला थाना पैइंसा क्षेत्र में हुआ है । पीड़िता के साथ रेप हुआ था जिसकी शिकायत लेकर पीड़िता कई बार थाना गई लेकिन पुलिस ने रिपोर्ट नहीं दर्ज की है । जब पीड़ित महिला ने उच्च अधिकारियों से गुहार लगाई तो एडिशनल एसपी के आदेश पर पीड़िता की रिपोर्ट तो दर्ज कर ली गई लेकिन पैइंसा पुलिस अभियुक्तों से मिलकर एक नया खेल रचकर मोटी रकम वसूली की है ।

पीड़िता की रिपोर्ट के बाद पुलिस ने अभियुक्त को पकड़कर 7 दिन तक थाने में बंद रखा और उसका चालान भी नहीं किया तथा पीड़िता को बार-बार धमकी देते रहे कि इस मामले में सुलह समझौता कर ले जिसके एवज में उसे मोटी रकम दी जाएगी । पीड़िता जब नहीं मानी तो ग्राम प्रधान पति करनसिंह एवं अभियुक्त के परिजन और पुलिस ने डरा धमका कर पीड़िता को के खाते में ₹100000 जमा कराकर और उसका 164 के बयान में लड़ाई झगड़ा का बयान दिला कर मामले को पलटवाने का काम किया है । पीड़िता जब भी बयान के लिए सीओ ऑफिस या कोर्ट गई है तो उसके आगे पीछे आधा दर्जन से ज्यादा लोग साथ साथ चलते थे और उसे लगातार दहशत मे बनाकर, डरा धमकाकर बयान बदलने पर मजबूर कर दिया है । जैसे ही 164 का बयान पुलिस व अभियुक्तगण दिलाने में सफल होते हैं वैसे ही आरोपी को पुलिस मोटी रकम लेकर थाने से 1 सप्ताह बाद छोड़ देती है और लड़की को गायब कर दिया जाता है । आखिर पीड़ित महिला पुलिस और अपराधियों के भय से क्या करती जब पुलिस ही रक्षक से भक्षक बन जाए और अभियुक्तों से मिल जाए तो पीड़ित का बदलना स्वभाविक है  । अब पीड़िता क्यों कैसे और कहां गायब हो गई है यह जांच का विषय है । इस मामले में यदि जिला प्रशासन ने जांच कराई तो थाना प्रभारी एवं प्रधान पति करनसिंह यादव समेत अभियुक्तों पर कार्रवाई होना तय है ,लेकिन जबरन महिला को दिन में 2:00 बजे घर से बैठा कर ले जाने वाले वह दो व्यक्ति कौन है जो उसे मुख्यालय के एक प्राइवेट अस्पताल में ले जाकर एबार्शन करवाए हैं और उसे 13 घंटे तक अस्पताल में कैद रखा गया है उस अस्पताल और डॉक्टर भी कार्रवाई होना तय है ।

आखिर क्यों और कहां गायब हो गई पीड़िता क्या इसकी जांच करेगा जिला प्रशासन

सूत्रों की माने तो पुलिस एवं प्रधान पति तथा अभियुक्त से की मिलीभगत में हो गया लगभग 3 लाख का हुआ खेल। जब तक लड़की का एबॉर्शन नहीं हुआ ,1 सप्ताह तक अभियुक्त को थाने में बंद रखी थी पुलिस । एबॉर्शन होने के बाद अभियुक्त को पुलिस ने छोड़ा । लड़की को कर दिया गया है गायब, आखिर कहां गायब हो गई पीड़िता । पुलिस व प्रधान पति और आरोपी के मिलीभगत से हो रहा है पीड़िता के साथ अन्याय । आखिर जिले में वह कौन सा है प्राइवेट अस्पताल जहां महिला का कराया गया है एबार्शन, जांच का विषय । वह कौन सा है व्यक्ति जो महिला को 2 बजे दिन मे जबरन उसके घर से गाड़ी में बैठा कर ले गया और जिला मुख्यालय में प्राइवेट अस्पताल में कराया एबार्शन , रात 3:00 बजे तक रखा गया भर्ती । इस मामले में पुलिस की भूमिका संदिग्ध , यह जांच का विषय है ।

यदि सूत्रों की माने तो पुलिस व प्रधान पति एवं आरोपी के परिजनों ने सांठगांठ कर जबरन पीड़िता के खाते में जमा कराया 1 लाख और उसके बाद उसको कर दिया गया गायब । यदि जिला प्रशासन ने इस मामले में कराया जांच तो थाना प्रभारी पैंसा एवं प्रधान पति सहित आरोपी के साथ-साथ एबार्शन कराने वाले अस्पताल के डॉक्टर पर भी कार्रवाई होना तय । अब देखना यह है इस मामले में जिला प्रशासन जांच कराता है या फिर सब कुछ रिश्वतखोरी के इस आलम में पीड़िता को न्याय मिलता है या नही और उसका सुराग लगता है या फिर सब कुछ मामला फाइलों में दबकर रह जाएगा यह जांच का विशष है । पैइंसा थाना क्षेत्र के गांव का है मामला ।

अमरनाथ झा पत्रकार ।

मुख्य ख़बरें