Thu. Oct 22nd, 2020

नहीं बंद हो रहा है मुण्डेरा मंडी में भ्रष्टाचार, मंडी सचिव की इनकम अपार ,करोड़ों की घाटे में चल रही मुंडेरा मंडी,5 माह से खुला है एक कर्मचारी का कैश, नहीं थम रहा है मंडी गेट पर अवैध वसूली का धंधा

👉 नहीं रुक रहा है मंडी गेट पर अवैध वसूली का धंधा, मंडी सचिव का खास व्यक्त मंडी गेट पर करता है अवैध वसूली ,सीसीटीवी कैमरे के फुटेज है गवाह

👉 10 से ₹15 हजार प्रति दिन की है अवैध वसूली, घाटे में चल रही है मुंडेरा मंडी, लेकिन मंडी सचिव की आमदनी में हुआ इजाफा। 

सूत्रों की माने तो मंडी सचिव रेनू वर्मा की है आय से अधिक संपत्ति, अगर जांच हुई तो निकलेगी करोड़ो की बेनामी संपत्ति ।

प्रयागराज । जिले के मुंडेरा मंडी में मंडी सचिव की अवैध वसूली थमने का नाम नहीं ले रही है । सूत्रों की माने तो मंडी में साढे सात सौ से भी ज्यादा आढती हैं । मंडी की दुकानों से प्रति माह अवैध वसूली होती है । अधिकतर मंडी की दुकाने एलाट किसी और के नाम है और धंधा कोई और कर रहा है । इसी बात की मंडी सचिव के लोग हर दुकानदारों से अवैध वसूली करते हैं, माहवारी बंधी हुई है मंडी सचिव की आय से अधिक अरबों की संपत्ति की अगर जांच हुई तो फंसना तय है ।

सूत्रों की माने तो मंडी सचिव के खासम खास एक कर्मचारी की 5 माह से कैश बुक खुली हुई है यदि जांच हुई तो इसमें मंडी सचिव और उस कर्मचारी पर कार्रवाई होना तय है । इसी प्रकार मंडी में (9-आर) अंडर रेट कट रहा है , यही कारण है कि मंडी गेट पर वसूली का दायरा बढ़ गया है और मंडी घाटे पर जा रही है जबकि मंडी सचिव कि कई गुना वसूली की इनकम बढ गई है ।

इसी प्रकार कौशांबी में मंडी का बुरा हाल है । यहां पर अझुवा में मंडी सचिव की कारनामे कई है । यदि देखा जाए तो अझुवा मंडी सचिव अवैध तरीके से सैनी में मंडी लगवा कर अवैध कमाई कर अपना जेब भरते हैं ,कई बार मीडिया में खबर आने के बाद भी इस मामले में कोई कार्यवाही नहीं हुई है ।

अब देखना यह है उच्च अधिकारी इस मामले का संज्ञान लेकर जांच कराते हैं या फिर यूं ही मामला अंधेर नगरी चौपट राजा की तरह चलता रहेगा या जांच का विषय है ।

अमरनाथ झा पत्रकार

मुख्य ख़बरें