Fri. Dec 6th, 2019

आखिर कैसे बना परीक्षा केंद्र, जब प्रथम जाँच में कमरों में नही दिखे सीसीटीवी कैमरे

एक तरफ सी सी कैमरे के साथ वाइस रिकार्डिंग की है अनिवार्यता, परन्तु अभी खँडहर में तब्दील स्कूल अझुवा क्षेत्र का चर्चित विद्यालय बना सेंटर ।

 

परीक्षा केंद्र बनाने में मानक की अनदेखी तो नही, गुलाबी नोटो की चमक के आगे मानक फीका तो नही

कौशाम्बी । यू0पी बोर्ड की आगामी हाईस्कूल और इण्टर मीडिएट के परीक्षाओ को नकल विहीन सम्पन्न करने के लिए जहाँ एक और सरकार नकेल कस रही है वही जनपद कौशाम्बी के विभागीय जिम्मेदारों द्वारा उन विधायलयो को सेंटर बनाया जा रहा है जहाँ पर मानक नही सिर्फ गुलाबी नोटो की महक रहती है ।

बता दे की सिराथू तहसील के अंतर्गत कई विद्यालयों का प्रस्ताव किया गया जिनमे ना तो विल्डिंग की समुचित व्यवस्था है और ना ही अन्य मानक है ,जिनमे कमरों में अभी तक दरवाजा तक नही है ,कैमरा और वाइस रिकार्डिंग के क्या हाल होंगे ये तो अब अधिकारी ही बता सकते है । अझुवा क्षेत्र के वीरान विह्ववान में स्थापित एक विद्यालय जो की गुलाबी नोटो के बल पर प्रति वर्ष सेंटर बनवा लेता है जबकी उक्त विद्यालय वर्ष में सिर्फ परीक्षा के समय ही खुलता है । स्थित यह है कि अभी विद्यालय परिसर के कमरों में दरवाजे तक नही कैमरा तो दूर की बात है । यही हाल सिराथू ब्लाक के 2 विद्यालयों का है । आखिर जब अभी यह हाल होगा तो क्या वास्तव में नकल विहीन परीक्षा सम्पन्न हो सकती है यह तो जांच का ही विषय है ।

मुख्य ख़बरें