Wed. Nov 20th, 2019

कौशांबी के सैनी में चल रही है अवैध तरीके से थोक मंडी का कारोबार, मंडी सचिव के मिलीभगत से वर्षों से चल रहा है खेल ,लाखों को हो रहा है प्रतिमाह राजस्व नुकसान, आखिर कहां से पूरा होता है अझुआ मंडी का टारगेट

सैनी जीटी रोड पर चल रही है अवैध थोक मंडी, अझुआ मंडी सचिव की मिलीभगत से चल रहा है खेल ।
👉 लाखों का प्रतिदिन हो रहा है राजस्व का नुकसान, जिले में नहीं शिफ्ट हो रही है सब्जी मंडी
👉 लाखों रुपया सचिव की है अवैध कमाई । आखिर कहां से पूरा होता है मंडी के राजस्व का टारगेट

कौशांबी । जिले के सैनी अवैध तरीके से थोक मंडी का व्यापार हो रहा है । इस मंडी में थोक व्यापार होने की वजह से जिले की मंडी का लाखों रुपए का राजस्व नुकसान हो रहा है । अझुआ मंडी सचिव की मिलीभगत से यह धंधा वर्षों से चल रहा है ।

सूत्रों की मानें तो मंडी सचिव का महीना की लाखों रू0 कमाई एवं अवैध तरीके से महीना बंधा होने की वजह से इस मंडी को खुली छूट दे रखी है । फुटकर कारोबार के नाम पर लाइसेंस देखकर सैनी में कराया जा रहा है थोक मंडी का कारोबार । जब जिले में सब्जी मंडी ओसा और अझुआ है तो फिर सैनी में किसके इशारे पर चल रही है थोक सब्जी मंडी यह जांच का विषय है ।इस मंडी में प्रतिदिन दर्जनों गाड़ियां बाहर से आती और माल लोड हो कर बाहर जाता है । देखा जाए तो इन गाड़ियों का नाइन आर भी नहीं बनता है और ना ही गेट पास बनता है । इन सभी लाइसेंस धारियों को मंडी सचिव ने खुली छूट फुटकर कारोबार करने के नाम पर खुली छूट दे रखी है और इनसे महीना बांध रखा है ।

यही कारण है कि जिले में सब्जी मंडी ओसा में और अझुआ में नहीं शिफ्ट हो रही है । कार्रवाई के नाम पर अधिकारी पल्ला झाड़ लेते हैं और बहानेबाजी करते हैं लेकिन इनके पीछे अधिकारियों की प्रतिमाह लाखों की अवैध कमाई हो रही है । यदि अझुआ में सब्जी मंडी नहीं है तो फिर आखिर कहां से पूरा होता है मंडी का टारगेट । कहां करते हैं मंडी सचिव एवं मंडी निरीक्षक ड्यूटी और कहां से पूरा करते हैं टारगेट, जबकि प्रतिदिन लगती है सैनी में अवैध तरीके से सब्जी मंडी और फल मंडी । सुबह 6:00 बजे से 12:00 बजे तक लगी रहती है मंडी, लगभग 50 कारोबारी करते हैं थोक व्यापार लेकिन मंडी सचिव जिले के आला अधिकारियों को गुमराह कर के हो रहे हैं मालामाल ।

सूत्रों की मानें तो मंडी सचिव अझुआ की अवैध काली कमाई से बनाई गई करोड़ों की बेनामी और आय से अधिक संपत्ति है । यदि इनकी जांच हुई तो कई चौंकाने वाले मामले उजागर होंगे l अब देखना यह है कि विभाग संज्ञान लेकर जांच कराता है या फिर मंडी सचिव की अवैध कमाई चलती रहेगी यह जांच का विषय है ।

मुख्य ख़बरें