Sun. Nov 17th, 2019

रेलवे एनसीआर में सीआरबी के आगमन को लेकर मचा हड़कंप ,दो नवंबर को एनसीआर इलाहाबाद आएंगे सीआरबी , कौशाम्बी वॉइस की भ्रष्टाचार पर लगातार खबरों का हुआ असर, गिर सकती है अधिकारियों पर गाज ।

एनसीआर जोन में अधिकारी बने किम जॉन की तरह तानाशाह ।
👉डीजल चोरी के खुलासे से सीनियर डीएमई बौखलाया, कर्मचारियों को बुला बुला कर नौकरी खाने की दी जा रही धमकी
👉जारी है स्टेटमेंट ,चेंबर में बुलाकर लाल बत्ती जलाकर लिखवाया जा रहा है दोषियों के बचाव में स्पष्टीकरण , दोषियों के ट्रांसफर होनेे के बाद भी नहीं छोड़ रहे डिपो ।

👉 ईमानदार अधिकारी का काम करना हुआ दूभर ,सीआर खराब करने की दी जा रही है धमकी
👉डीआरएम के द्वारा दूसरे विभागों में कराई जा रही है नौकरी और मुफ्त में दिया जा रहा है वेतन

प्रयागराज / इलाहाबाद । रेलवे एनसीआर डीआरएम कार्यालय व अन्य भ्रष्टाचार से संबंधित खबरें कौशांबी वाइस के लगातार प्रशासन के बाद रेलवे बोर्ड ने लिया संज्ञान लिया है और 2 नवंबर को सीआरबी एनसीआर आ रहे हैं । सीआरबी के आने से रेलवे एनसीआर एवं डीआरएम ऑफिस के अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है । सीआरबी की कुछ अधिकारियों पर गाज भी गिर सकती है । चुकी भ्रष्टाचार एनसीआर व डीआरएम ऑफिस में बड़े पैमाने पर व्याप्त है ।

बता दें कि 1 सप्ताह पहले आरडीआई इंचार्ज एवं सीनियर डीएमई से जुड़ी खबर कौशांबी वाइस में डीजल तेल चोरी की खबर प्रकाशित किया था । उच्च अधिकारियों ने इस मामले में खबर का संज्ञान लेकर सूरजकुंड से गिरवरधारी श्रीवास्तव को हटा दिया लेकर सीनियर डीएमई कई दिनों से लगातार आरडीआई में कार्यरत कई कर्मचारियों का उत्पीड़न कर रहे हैं । और मजेदार बात तो यह है कि उन  दोषी अधिकारी के ट्रांसफर होने के बावजूद भी अभी डिपो छोड़ने का नाम नहीं ले रहा है और आयदिन डिपो में जमा रहता है ।

सूत्रों की माने तो सीनियर डीएमई सूरजकुंड आरडीआई में कार्यरत चार -पांच कर्मचारियों को उत्पीड़न कर रहे हैं और मनमानी तरह से बयान देने के लिए दबाव डाल रहे हैं ।  उन्हें कई- कई घंटों तक अपने ऑफिस के बाहर बैठाए रखा जा रहा है । इंचार्ज गिरवरधारी श्रीवास्तव एवं उच्च अधिकारियों की मिलीभगत से महीने में लगभग 20 से लेकर ₹25 लाख तक की डीजल चोरी हो रही थी जिसकी शिकायत होने के बावजूद भी अधिकारियों ने कार्यवाही नहीं की थी । कौशांबी वॉइस की खबर प्रकाशन के बाद रेल मिनिस्ट्री एवं उच्च अधिकारियों ने संज्ञान लेकर कार्रवाई के निर्देश दिए है और आरपीएफ इलाहाबाद को जांच करके कार्रवाई करने का आदेश दिया है । फिलहाल कौशांबी वॉइस की खबर के असर से सीनियर डीएमई ने आरडीआई इंचार्ज गिरिवर्धारी श्रीवास्तव को सूरजकुंड से हटाकर छिवकी कर दिया है लेकिन अभी भी वहां पर कार्यरत कर्मचारियों का उत्पीड़न किया जा रहा है ।

बता दें कि रेलवे में भ्रष्टाचार की तमाम खबरों को लेकर इलाहाबाद मे 2 नवंबर को सीआरबी आ रहे हैं जिससे पूरे एनसीआर जोन में हड़कंप मचा हुआ है । तमाम चीजों पर चर्चा करेंगे सीआरबी फिलहाल 3 माह के अंदर कौशांबी वॉइस तमाम रेलवे डिपार्टमेंट में व्याप्त भ्रष्टाचार की खबरें प्रकाशित कर रेलवे बोर्ड सहित तमाम अधिकारियों को अवगत कराया गया है ,जिसकी जांच चल रही है ।

सीनियर डीएमई द्वारा डीजल चोरी के आरोपियों को बचाने का प्रयास जारी, शिकायत कर्ताओं को बुलाकर कई कई घंटे तक जाता है डराया धमकाया

बता दें कि डीजल चोरी कांड में जिन कर्मचारियों ने शिकायत की थी उनका स्थानांतरण कर दिया गया है और उसके पश्चात जो लोग दोषी पाए गए थे उनके प्रति सीनियर डीएमई ने कार्यवाही ना करके दोषियों को बचाने मे लगे हैं । उन्हीं कर्मी को डरा धमका कर शिकायत कर्ताओं पर दबाव बना.रहे हैं । उनके खिलाफ एक जांच की रिपोर्ट आने के बावजूद भी उल्टा कई-कई घंटे रात में चेंबर में कर्मचारियों को डरा- धमकाकर नौकरी खाने की धमकी देते हुए बयान बदलने का दबाव डाल रहे हैं । कर्मचारियों से लिखवा कर लिया जा रहा है नहीं तो उन्हीं का सी0आर0 खराब करने की धमकी दी जा रही है । कर्मचारी भयभीत है और अपना नाम ना बताते हुए मीडिया से अपने ऊपर हो रहे उत्पीड़न की दास्तां बयां कर रहे हैं lसूत्रों की माने तो तानाशाही उत्तर मध्य रेलवे जोन में अधिकारियों की थमने का नाम नहीं ले रही है ,क्योंकि घूम फिर आकर यहां लगभग 20 वर्षों से कई दर्जन अधिकारी व कर्मचारी इसी जोन में जमे हुए हैं, जिनको राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है और माफियाओं से भी संबंध है । इस संबंध में 2 नवंबर को सीआरबी में इलाहाबाद एनसीआर में औचक निरीक्षण करने का प्लान बनाया है ।

अब देखना है कि इन तानाशाह के खिलाफ जो इलाहाबाद एनसीआर जोन में लगभग 20 वर्षों से जमे हुए हैं और भ्रष्टाचार में लिप्त हैं उनके खिलाफ क्या कार्रवाई होती है यह जांच का विषय है ।कर्मचारी श्रवण कुमार एवं महेश एवं मंजू यादव ने लिखित में जो बयान दिए हैं उसके दस्तावेज.मीडिया के पास भी उपलब्ध है ।

मुख्य ख़बरें